आनन्दधारा आध्यात्मिक मंच एवं वार्षिक पत्रिका

सर्वे भवन्तु सुखिन: सर्वे सन्तु निरामया:, सर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा कश्चिद्द:खभाग्भवेत्


सप्त चक्र को जानो, मेरुदंड़ के भीतर जो स्थित

सप्त चक्र को जानो, मेरुदंड़ के भीतर जो स्थित

सप्त चक्र को जानो, मेरुदंड़ के भीतर जो स्थित

Advertisements


2 Comments

mahamaya ka hai adbhut khel – devraha lahri

muladhar-mein-viraje-kaali-maiya