आनन्दधारा आध्यात्मिक मंच एवं वार्षिक पत्रिका

सर्वे भवन्तु सुखिन: सर्वे सन्तु निरामया:, सर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा कश्चिद्द:खभाग्भवेत्


Khot agar rah jayegi sansar mein le aayegi

खोट अगर रह जायेगी संसार में ले जायेगी

खोट अगर रह जायेगी संसार में ले जायेगी

Advertisements


saansarik karya

हमारे प्रत्येक सांसारिक कार्य बंधनकारी न होकर मुक्ति में सहायक हो