आनन्दधारा आध्यात्मिक मंच एवं वार्षिक पत्रिका

सर्वे भवन्तु सुखिन: सर्वे सन्तु निरामया:, सर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा कश्चिद्द:खभाग्भवेत्

Eswar par apne mann ko ekagra karein – Maa AnandMayi

अनेक लोगों को नयी और  बेहतर दुनिया बनाने की तीव्र इच्छा होती है! ऐसे विषयों पर विचार करते बैठने से अच्छा है कि “उस” पर  पर अपने मन को एकाग्र करें, जिसका चिंतन करने से पूर्ण शान्ति की प्राप्ति हो सकती है! ईश्वर को या सत्य को प्राप्त करने का प्रयास करना मनुष्य का अहम कर्त्तव्य है – आनन्दमयी माँ

माँ आनन्दमयी

Advertisements

Comments are closed.