आनन्दधारा आध्यात्मिक मंच एवं वार्षिक पत्रिका

सर्वे भवन्तु सुखिन: सर्वे सन्तु निरामया:, सर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा कश्चिद्द:खभाग्भवेत्

हमें आत्मा की प्राप्ति नहीं करनी है, वह तो हमारा प्रकृत रुप ही है – स्वामी विवेकानन्द

हमें आत्मा की प्राप्ति नहीं करनी है, वह तो हमारा प्रकृत रुप ही है – स्वामी विवेकानन्द ( दे‌ववाणी)

Advertisements

Comments are closed.