आनन्दधारा आध्यात्मिक मंच एवं वार्षिक पत्रिका

सर्वे भवन्तु सुखिन: सर्वे सन्तु निरामया:, सर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा कश्चिद्द:खभाग्भवेत्

दुर्गतिनाशिनी दुर्गे जय जय , काली काल विनाशिनी जय जय

दुर्गतिनाशिनी दुर्गे जय जय , काली काल विनाशिनी जय जय |
उमा रमा ब्रह्माणी जय जय, राधा रुक्मिणी सीता जय जय ||

संत बाबा नागपाल, कात्यायनी शक्ति पीठ, छत्तरपुर

Advertisements

Comments are closed.