आनन्दधारा आध्यात्मिक मंच एवं वार्षिक पत्रिका

सर्वे भवन्तु सुखिन: सर्वे सन्तु निरामया:, सर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा कश्चिद्द:खभाग्भवेत्

param tatva adhikari

जो स्वयं के तत्व को जान लेता है, परम तत्व को जानना उसी से संभव है – श्रीराम शर्मा आचार्य, अखण्ड ज्योति, मार्च १९९३

Advertisements

Comments are closed.