आनन्दधारा आध्यात्मिक मंच एवं वार्षिक पत्रिका

सर्वे भवन्तु सुखिन: सर्वे सन्तु निरामया:, सर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा कश्चिद्द:खभाग्भवेत्

Datia Swami (दतिया स्वामी)

जिस पराशक्ति ने सारी सृष्टि की रचना की है वही प्रत्येक शरीर में कुण्डलिनी रुप में विद्यमान है — दतिया स्वामी

दतिया स्वामी हस्ताक्षर

(हस्ताक्षर)

Advertisements

Comments are closed.